भयंकर महामारी, कोरोना के लक्षण और बचाव के उपाय

आज जिस तरह से पूरा संसार कोरोना नाम की महामारी से जूझ रहा है तो शायद ही कोई हो जो जिसने कोरोना का नाम नहीं सुना हो और उसके दिल में कोरोना का भय न हो। कोरोना ने आज चाहे वह देश अमीर हो या गरीब किसी को भी अपने कहर से नहीं छोड़ा है। इस समय हमारा देश भी कोरोना की दूसरी लहार का सामना कर रहा है जो पहले से भी तेज़ी से अपने पैर पसारती जा रही है। आज हमें भी कोरोना के बारे में और उससे बचाव के उपायों के बारे में सही से जानकारी जरूरी है। तो आइये जानते हैं इस बारे में विस्तार से –

कोरोना वायरस (कोविड 19) –

कोरोना वायरस यानी कोविड 19 आज ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी बन चुका है। वैसे तो यह वायरस तीन बार पहले भी लोगों की जान ले चुका है लेकिन पिछले साल चीन के वुहान प्रान्त के सीफूड और पोल्ट्री मार्केट से इसकी शुरुआत के बाद इसने पूरी दुनिया को आज घुटने पर ला खड़ा किया है। आज हर कोई देश इस महामारी से बचने के हर संभव उपाय कर रहा है लेकिन यह वायरस बहुत तेज़ी से लोगों की जान और माल का नुकसान करता ही जा रहा है।

कोरोना
कोरोना

कोरोना वायरस पशुओं में होने वाला रोग है जो उनके द्वारा मनुष्यों में भी आ जाता है। इस वायरस का नाम SARS -COV -2 रखा गया है। SARS का मतलब है सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम, SARS -COV -2 से होने वाली बिमारी का नाम COVID -19 है। 30 जनवरी 2020 को विश्व स्वाथ्य संगठन ने WHO ने सामाजिक स्वाथ्य इमरजेंसी घोषित किया और यह पूरे विश्व की चिंता का कारण बन गया।

एक से दूसरे में फैलने के कारण –

जब इस वायरस से पीड़ित व्यक्ति किसी स्वथ्य व्यक्ति के संपर्क में आता है तो यह वायरस उस स्वथ्य व्यक्ति को भी बीमार कर देता है।
यह वायरस इससे पीड़ित व्यक्ति के छींकने से नाक के द्वारा निकली छोटी छोटी बूंदों के साथ गिरने के स्थान या वस्तु के संपर्क के द्वारा फैलता है। जब कोई व्यक्ति इन बूंदों के संपर्क में आता है और जब वह अपने हाथों से अपनी आँखें या मुहं को छू लेता है तो यह वायरस उसके शरीर में प्रवेश कर जाता है।

किन लोगों को यह वायरस जल्दी प्रभावित करता है –

ऐसे वह सभी लोग जो हाई ब्लड प्रेशर या दिल की समस्या से पीड़ित हैं या मधुमेह रोग से पीड़ित हैं जल्दी इस वायरस का शिकार बनते हैं। बुजुर्ग लोग या ऐसे वह लोग जिनकी इम्युनिटी पावर कम है आसानी से इसका शिकार बनते हैं। अगर कोई पहले से ही किसी गंभीर बिमारी से ग्रसित है तो इस वायरस का वह आसान शिकार है।

यह भी पढें: Best Diet plan to gain weight | How to Gain Healthy Weight

सुरक्षित रहने के उपाय –

वैसे तो आज कोरोना वायरस के लिए टीका भी आ चुका है और अपने यहाँ यानी भारत में बहुत तेज़ी से लगाए भी जा रहे हैं लेकिन अभी तक यह कोई प्रभावी परिणाम नहीं छोड़ पाया है। बस हम कुछ विशेष बातों का ध्यान रखकर और उन्हें अपनाकर इसकी चपेट में आने वाले रिस्क को कम कर सकते हैं।

  • अपने हाथों को बार बार जल्दी जल्दी धोएं। किसी अल्कोहल से बने सेनिटाइजर का उपयोग ज़रूर करें।
  • खांसते और छींकते समय अपने मुहं को अवश्य ढकें।
  • अपनी आँखें, नाक,और मुहं को बार बार छूने से बचें।
  • अपने चेहरे को मास्क से ढके रहें और दूसरों से हमेशा दो गज की दूरी बनाये रखें।
  • अगर कोई इस वायरस से पीड़ित व्यक्ति आपकी जानकारी में है तो उससे सुरक्षित दूरी बनाये रखें।

कब है डॉक्टर की ज़रुरत –

अगर आपको सिर्फ खांसी या जुखाम की शिकायत है तो डॉक्टर के पास जाने से बचें, आप केवल तब ही डॉक्टर के पास जाएँ जब आपको साँस लेने में कोई कठिनाई महसूस हो। अगर आपको थोड़ा सा भी शक है कि आप इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं तो सीधे डॉक्टर के पास न जाकर हेल्प लाइन नंबर पर फ़ोन करें।

कोरोना वायरस के लक्षण –

कोरोना के शुरूआती लक्षण सामान्य खांसी बुखार से शुरू होते हैं। कोरोना वायरस के संपर्क में आ जाने के बाद 2 से 5 दिन में इसके लक्षण दिखाई देने में लग जाते हैं। लेकिन कोई भी लक्षण न होने पर भी आप इस वायरस से सक्रमित हो सकते हैं। वैसे देखा जाए तो यह संक्रमण 80 प्रतिशत लोगों में बिना किसी दवा के भी ठीक हो जाता है। यह खतरनाक तभी होता है जब यह आपके शवसन तंत्र पर असर डाले। अगर आप इस वायरस के संपर्क में आ गए हैं तो ध्यान दें इसके लक्षणों पर –

  • खाँसीं
  • बुखार
  • थकान
  • गले में खराश
  • नाक बंद होना
  • साँस लेने में तकलीफ होना

डबल म्युटेंट वायरस –

भारत में भी डबल म्युटेंट वायरस पाया गया है जोकि एक चिंता का विषय बन चुका है। भारत में अभी भी लगभग 7000 से भी अधिक म्युटेंट कोरोना वायरस के हैं और इनमे से सबसे ज्यादा चिंता का कारण डबल म्युटेंट है। डबल म्युटेंटका मतलब है कि यह वायरस म्यूटेशन करके और भी ज्यादा खतरनाक रूप धारण कर चुका है और अपने RNA को भी बदल चुका है। हालत यह हैं की जो वेक्सीन इस समय इस वायरस के लिए प्रयोग में जा रही है यह म्युटेंट इस वेक्सीन को फ़ैल कर रहा है यानी इस पर वेक्सीन का कोई असर देखने को नहीं मिल रहा जोकि गहरी चिंता का कारण है।

भारत में covid-19 के नए लक्षण –

जैसे -जैसे कोरोना म्यूटेशन कर रहा है तो मरीजों में इसके नए- नए लक्षण भी देखने में आ रहे हैं। नए लक्षणों को भी हमें ध्यान में रखना होगा।

कोरोना वायरस के नए लक्षण –

जीभ पर सूजन और धब्बे उभरकर आना , स्किन पर जलन होना ,स्किन पर एलर्जी हो जाना , पैरों के तलवों में जलन होना ,डायरिया हो जाना , सूखी खांसी होना, नाक बहना ,स्किन पर लालिमा आ जाना ,तेज़ बुखार ठण्ड के साथ आना तथा पटे में दर्द की भी शिकायत हो सकती है।

कोरोना के शुरूआती लक्षण –

कोरोना वायरस के शुरूआती कुछ लक्षण इस प्रकार हैं जिनसे हमें सतर्क रहने की ज़रुरत है।

  • सिर में दर्द यह तेज़ भी हो सकता है।
  • गले में खराश होना
  • स्वाद या गंध को महसूस न कर पाना
  • दस्त लग जाना
  • शरीर में दर्द होना
  • स्किन पर लालिमा का होना

यह भी पढें: Pads vs menstrual cups | Which is better | Full detail

कोरोना वायरस के कुछ गंभीर लक्षण –

सामान्य लक्षणों में तो बहुत ज्यादा घबराने की बात नहीं है बस आपको सावधानी से विशेषज्ञों की सलाह को पूरी तरह से मानना होगा लेकिन अगर लक्षण गंभीर हैं तो आपको तुरंत डॉक्टर की ज़रुरत है। गंभीर कुछ कोरोना वायरस के लक्षण इस प्रकार हैं –

  1. साँस लेने में कठिनाई होना
  2. सीने में दर्द की शिकायत होना
  3. चलने -फिरने में भी परेशानी होना
  4. शरीर बुरी तरह से टूटना
  5. ऑक्सीजन की शरीर में कमी होना
  6. यह कुछ लक्षण कोरोना वायरस के गंभीर लक्षणों में से हैं।

कोरोना के लक्षण कितने दिन में दिखाई देते है –

कोरोना के लक्षण कितने दिन में दिखाई देते हैं यह भी एक महत्वपूर्ण सवाल है जो हमें ज़रूर जानना चाहिए। वैसे तो कोरोना के शुरूआती लक्षण सामान्य खांसी जुखाम की तरह ही होते हैं जो अक्सर मौसम के बदलने के साथ-साथ हम सब झेलते रहते हैं इसीलिए कोरोना वायरस को पहचानना बहुत मुश्किल भरा काम है। जर्नल एनल ऑफ इंटरनल मेडिसिन की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना वायरस के हमले के बाद इसके लक्षण हमें दो से पांच दिन के अंदर दिखाई दे सकते हैं। अगर इन तीन लक्षणों में से कोई भी लक्षण आपको दिखाई दे तो कोरोना की जाँच ज़रूर कराएं।*

  • अगर आप कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं तो पांच दिन के अंदर आपको सुखी खांसी हो सकती है।
  • रोगी को बहुत तेज़ बुखार हो सकता है जिससे उसके शरीर का तापमान तेज़ी से बढ़ जाता है।
  • कोरोना वायरस से ग्रसित व्यक्ति को पांच दिनों के अंदर साँस लेने में तकलीफ हो सकती है जो फेफड़ों में बलगम जमने के कारण होती है।

Disclaimer

यह सारी जानकारी इंटरनेट के माध्यम द्वारा इकठ्ठा की गयी है, इसमें किसी भी प्रकार की त्रुटि के लिए हम किसी भी रूप से जिम्मेदार नहीं है। अगर आपको किसी भी प्रकार का कोई भी संदेह या समस्या है तो डॉक्टर से उचित परामर्श लें। इस पोस्ट के माध्यम को सिर्फ जानकारी के लिए ही उपयोग में लाएं। हम किसी भी प्रकार से किसी भी जानकारी का कोई समर्थन या असमर्थन नहीं करते। कृपया, अपने विवेक से काम लें। धन्यवाद

किसी भी प्रकार के संपर्क के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़ें।

Hello, everyone Myself Anmol Mishra I'm from Rampur Uttar Pradesh. Welcome to our blog Tourkro Here we will provide you only interesting and original content, which you will like very much.

2 thoughts on “भयंकर महामारी, कोरोना के लक्षण और बचाव के उपाय”

Leave a Reply

Share via
Copy link
Powered by Social Snap
%d bloggers like this: